तारा (Tara)

खुश होता था यह सोचकर,
तारा हूँ उसकी जिंदगी का,
पता ना था पर मुझे,
वह साथ सिर्फ अँधेरे तक का था!

-खुशी गोयल

———————————

Khush hota tha yah sochkar,
Tara hu uski zindagi ka,
Pata na tha par mujhe,
Vah saath sirf andhere tak ka tha!

-Khushi Goyal

राबता (Raabta)

नम आँखों से होते हुए तुझसे जुदा,
डर था दिल में बिछड़न और दूरी का पल रहा,
आज वही दिल खुशदिल है पाकर ये हसीन राबता,
जो दूरी में हमें और भी करीब ले आया!

-खुशी गोयल

———————————————–

Nam aankhon se hotei huye tujhse judaa,
Dar tha dil mei bichdan aur doori ka pal raha,
Aaj vahi dil khushdil hai paakar ye haseen raabta,
Jo doori mei humei aur bhi kareeb le aaya!

-Khushi Goyal